Essay and Paragraph on "छात्र और सामाजिक सेवा" in हिन्दी - greatexplain.com

Share:

छात्र और सामाजिक सेवा

Essay and Paragraph on "छात्र और सामाजिक सेवा" in हिन्दी - greatexplain.com
समाज सेवा समाज की सेवा है। मनुष्य समाज में रहता है। उसे सामाजिक प्राणी कहा जाता है। समाज के सदस्य के रूप में उन्हें समाज के लिए कुछ कर्तव्यों को निभाना पड़ता है। समाज में हर कोई दूसरों पर निर्भर है। इसलिए, समाज के विभिन्न सदस्यों के बीच समझ और सहयोग होना चाहिए।

समाज के कल्याण के लिए कोई भी कार्य या सेवा समाज सेवा कहला सकती है। सामाजिक सेवाओं की सूची प्रस्तुत करना मुश्किल है। समाज सेवा के लिए व्यापक रेंज है। यह समाज के उत्थान के लिए किए गए कई कार्यों को अपनाता है। गरीबी और अशिक्षा को दूर करने के लिए, स्वच्छता के मामलों में लोगों की मदद करने के लिए, गाँव की सड़कों को फिर से बनाने, झुग्गियों को साफ़ करने, पेड़ लगाने के लिए, बाढ़ से त्रस्त लोगों को राहत देने के लिए कुछ सामाजिक सेवाएं हैं।

एक छात्र समाज का एक सदस्य है। वह अपने भाइयों के बीच रहता है। इसलिए उनका समाज के प्रति कुछ कर्तव्य है। वह एकांत जीवन नहीं जी सकता। उन्हें अपने शुरुआती जीवन में समाज सेवा के आदर्शों को आत्मसात करना चाहिए। एक छात्र का पहला कर्तव्य पढ़ना है। उसे जीवन की तैयारी करनी है। वह निश्चित रूप से, समाज को एक सर्वहारा सेवा नहीं दे सकता है। लेकिन अवकाश और लंबी छुट्टी के दौरान वह समाज के लिए कुछ छोटे काम कर सकता है। जब भी उन्हें समय मिलता है वह ये कर सकते हैं।

अवकाश या अवकाश के दौरान छात्र समाज के लिए विभिन्न कार्य कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, वे गांवों का दौरा कर सकते हैं और ग्रामीणों को हाइजीन और सफाई के मामलों में सलाह दे सकते हैं। वे खुद को गांव की मलिन बस्तियों को साफ कर सकते हैं। वे वयस्क शिक्षा केंद्र शुरू कर सकते हैं और गांवों के अनपढ़ लोगों को शिक्षा प्रदान कर सकते हैं। वे बाढ़ प्रभावित या चक्रवात प्रभावित क्षेत्र में जा सकते हैं और मदद और राहत की व्यवस्था कर सकते हैं। वे गांव की सड़कों और बांधों का निर्माण कर सकते हैं। वे विभिन्न क्षेत्रों में लोगों को सलाह दे सकते हैं। वे लोगों को विभिन्न बीमारी का कारण और स्वच्छता का सिद्धांत समझा सकते हैं। इस तरह से छात्र जरूरत के समय में समुदाय की सेवा कर सकते हैं।

इन सेवाओं से न केवल समाज को बल्कि स्वयं को भी लाभ होता है। वे अलग-अलग क्षेत्र के विभिन्न लोगों के करीब आते हैं। वे इन काम से व्यावहारिक अनुभव प्राप्त करते हैं। लेकिन उन्हें यह ध्यान रखना चाहिए कि ये कर्तव्य पढ़ाई में उनकी प्रगति में बाधा नहीं बनते।

दुनिया के अधिकांश महापुरुष सामाजिक कार्यकर्ता थे। लोग उन्हें प्यार करते हैं क्योंकि उन्होंने समाज के लिए काम किया। इसलिए छात्रों को इन महापुरुषों का आदर्श लेना चाहिए। उन्हें इस बीज समय से समाज की सेवा की भावना उत्पन्न करनी चाहिए।

To download CLICK HERE

To read in English CLICK HERE